Main chamaron ki gali tak le chaloonga aapko : Adam Gondvi


 ‘‘ मैंने अदब से हाथ उठाया सलाम को, समझा उन्होंने इससे है खतरा निजाम को। 
    चोरी न करें, झूठ न बोलें तो क्या करें, चूल्हे पे क्या उसूल पकायेंगें शाम को।’’
अदम गोंडवी





0 आपकी राय:

Post a Comment

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...